Purvottar Railway Kendreeya Granthalaya
North Eastern Railway (Headquarter)
Gorakhpur (UP) - 273 012
e-Library
| Ver.4.0 Rel.15, 05/2022 WEB - OPAC
     
Catalog Search Select Field: Advance Search
   
About Library
Search

Browse Collection By


Processing! Please wait....

About Library



यह अकेला केन्द्रीय सरकार का ग्रंथालय है जिसमें पुस्तकों को विषयानुसार व्यवस्थित करने के लिए भारतीय ग्रंथालय विज्ञानी डॉ. एस. आर. रंगनाथन द्वारा प्रतिपादित वैज्ञानिक विधि “द्विबिन्दुवर्गीकरण” की पद्धति अपनायी गयी है । निधानी पर पुस्तकों का व्यवस्थापन विषय के वर्गों के अंतर्गत ग्रंथांक के अनुसार किया जाता है । वर्तमान में इस ग्रंथालय में लगभग 80,000 पुस्तकों का वृहद संकलन है । तकनीकी पुस्तकों के अलावा रेल कर्मचारियों के ज्ञानवर्द्धन के लिए अन्य विषयों जैसे साहित्य, धर्म एवम् दर्शन शास्त्र, यात्रा साहित्य, इतिहास तथा विज्ञान आदि विषयों का भी उत्तम संकलन किया गया है । सरकारी काम में प्रयोग की जा रही हिन्दी एवम् अंग्रेजी भाषा की पुस्तकों के अतिरिक्त शैक्षणिक पुस्तकें भी ग्रंथालय में मंगाई जाती हैं जिससे रेल कर्मचारियों के बच्चे लाभान्वित हो सके ।


http://ner.indianrailways.gov.in/


मुख्यतया यह एक विभागीय तकनीकी ग्रंथालय है । इसमें इंजानियरिंग, इलेक्ट्रीकल, संकेत एवम् दूर संचार, लेखा तथा प्रबंध आदि विषयों के पुस्तकों का विशाल संकलन है । जिससे विभाग से सम्बंधित अधिकारी एवम् कर्मचारी तकनीकी कार्यों के कुशल सम्पादन के लिए आवश्यक जानकारी प्राप्त कर सकें । ग्रंथालय का मुख्य उद्देश्य-
1. पाठक के संदर्भ समस्याओं का यथाशीघ्र निवारण करना ।
2. ग्रंथालय को अत्याधुनिक तकनीकी के प्रयोग से एक मानक ग्रंथालय के रूप में परिणित करना ।


यह कौन जानता था कि वर्ष 1960 में तत्कालीन महाप्रबंधक श्री एस. एस. रामासुब्बन द्वारा पूर्वोत्तर रेलवे पर ग्रंथालयों की स्थापना के लिए, लिए गये निर्णय के परिणामस्वरूप भारतीय रेल के एक अद्भूत विशाल ग्रंथालय का विकास हो जायेगा । महाप्रबंधक महोदय के उक्त निर्णयानुसार मुख्यालय में एक केन्द्रीय ग्रंथालय, प्रत्येक जिला मुख्यालयों, शैक्षणिक एवं प्रशिक्षण संस्थानों, वर्कशाप तथा चिकित्सालयों में ग्रंथालय एवं सचल ग्रंथालय की स्थापना की जानी थी । इसी कड़ी में इस रेल के गोरखपुर मुख्यालय स्थित केन्द्रीय ग्रंथालय की शुरुआत 1960 में महाप्रबंधक द्वारा गठित समिति की देख-रेख में की गयी । परन्तु स्थान एवम् कर्मचारियों आदि की समुचित व्यवस्था न होने के कारण केन्द्रीय ग्रंथालय का उचित विकास नहीं हो सका । वर्ष 1966-67 में महाप्रबंधक द्वारा नामित ग्रंथालय समिति की देख-रेख में केन्द्रीय ग्रंथालय की पुनः शुरुआत हुई । विभिन्न विभागों के ग्रंथालयों में उपलब्ध पुस्तकों को मुख्य अभियंता के ग्रंथालय, जहाँ स्थान व कर्मचारी उपलब्ध थे, मिलाकर इस ग्रंथालय का वास्तविक गठन किया गया । तब से यह ग्रंथालय प्रशिक्षित ग्रंथालयी की देख-रेख में निरन्तर विकास करता रहा है । इस ग्रंथालय में विभिन्न विधाओं की स्तरीय पुस्तकों का विशाल संग्रह है । इसका संदर्भ संग्रह अत्यंत उच्च कोटि का है । यह ग्रंथालय उत्तम संग्रह एवम् पाठक सेवा के लिए रेल जगत के बाहर भी ख्याति प्राप्त है । स्थानीय इंजीनियरिंग कॉलेज, मेडिकल कॉलेज तथा गोरखपुर विश्वविद्यालय के प्राध्यापक तथा शोध छात्र इस ग्रंथालय से समय-समय पर सूचना प्राप्त करते रहते हैं ।



Contact Details


Purvottar Railway Kendreeya Granthalaya

NORTH EASTERN RAILWAY (HEADQUARTER)

Gorakhpur (UP) - 273 012

Gorakhpur

Uttar Pradesh

Email: lia[at]ner[dot]railnet[dot]gov[dot]in


MEMBER LOGIN

Select Your Library

Member No

Password

Enter the code shown above

Not remember Password? Then get OTP in your registered Mobile by pressing below Button.


 

     
X
X